How to learn from Everyone By Sandeep Maheshwri (Hindi)

How to learn from Everyone

LIFE CHAPTER

हमे कुछ ही लोगो से नही बल्कि सब से सीखना है,

सबका मतलब सब से।इसका मतलब आप 24 घण्टे सिख रहे हो।हर स्थिति से कुछ ना कुछ सीख रहे हो।

उस से क्या होगा की आप पूरी तरह से एक्टिव रहोगे,सीखना कुछ चाहे वो आध्यात्मिक ज्ञान हो,या संसारिक काम,जॉब बिजनेस,खेल आदि सब।

फिर क्या होगा आलस्य आप को छु भी नही पायेगा।आप का माइंड पूरी तरह से अलर्ट रहेगा,आप हर एक को देखोगे और कुछ न कुछ सीखते चले जाओगे।
जो आप की नजर में कामयाब इंसान है उस से भी और जो कामयाब नही है उस से भी सीखते चले जाओगे।

उनकी सोच से कुछ सीखोगे,उनके एक्सन से कुछ सीखोगे।अच्छा इसने ये किया तो ये इस प्रॉब्लम में फँसा,और उसने ये किया तो प्रॉब्लम सॉल्व हुई।

दो तरह के लोग है इस दुनिया में एक वो है जो अपनी प्रॉब्लम से निकल ही नही पा रहे है।

एक वो है जिनकी लाइफ में प्रॉब्लम ही नही है ।आप हर तरह के इंसान से सिख रहे हो ,इक इंसान वो जो प्रॉब्लम में फँस जाता है और निकल नही पाता है, उसने एक तरह की सोच बना ली है एक Belive बना लिया है की 10 साल हो गए 20 साल हो गए 50 साल हो गए छोड़ ही नही पा रहा। उस Belive को उसी में अटका पड़ा है।

वो Belive कुछ भी हो सकता है,जैसे:- इस देश का कुछ नही हो सकता।
सब चोर है भर्स्ट है।

कोई कुछ नही करता ।

उसको कोई बोले की अरे आप क्यों नही करते फिर ।

कुछ पूछो उस से सब में तुम भी तो हो।क्यों अपनी ऊगली उधर कर रहा है।क्योकि उन्होने अपना एक Belive बना लिया है की अब उसके बहार चीजो को देख ही नही पा रहे है ,समझ ही नही पा रहे है, ऐसे लोग उन लोगो को भी नही देख सकते जो एक्चुली कुछ कर रहे होंगे।उनके खुद के कुछ करने का तो सवाल ही नही होता।

ऐसे ही किसी ने अपना Belive बना लिया है की जैसे बिजनेस करना बहुत मुश्किल है,एक बार कभी 20 साल पहले ट्राई किया और फेल हो गए तो बस मान लिया की किसी के बस का नही है कोई नही कर सकता लाखो में से कोई 1 या 2 कामयाब होते है।

पढ़ाई करना मुश्किल है?
ये काम मुश्किल है वो काम मुश्किल है,ओह ये काम तो कोई कर ही नही सकता ।

ये Reality नही Belive है,ऐसे लोगो से सीखें की मुझे Believe के बेस पर नही Reality के बेस पर जीना है।

हर Problem को Reality बेस पर देख़ो न की Believes बेस पर आप उस से सीखते चले जाओगे।

आप सब से सीख रहे होगे बच्चे,बड़े,बुढ़े सब से कुछ न कुछ।

सबसे बड़ी प्रॉब्लम क्या है ?आज की लोग आलसी है,प्रॉब्लम का Solution निकाल सकते है लेकिन क्या करे आलसी जो है।

जब आप सब से सीख रहे हो तो आप Active रहोगे और आलस्य से बचोगे ,जो Mind है ये बहुत तेजी से दौड रहा और हम Active है हम कुछ न कुछ सीख रहे है जिसे अध्यात्म में जिज्ञासु बोलते है तो आप का मन यानि माइन्ड को आप सही दिशा सही रास्ते पर लगा सकते हो,आप आलसी हो तो ये अपने आप ही उस रास्ते पर जायेगा जो सही नही है यानि बुराई की तरफ।

आप Believe के बेस पर नही फिर आप Reality के बेस पर चलोगे ।

सच सामने आता है तो झुठ से बने Belive एक सेकेंड में टूट जाते है।हम अपनी आदतें अब Reality के बेस पर बना सकते है ।

अब नही बनी तो फिर कभी नही बना पायेगे,अब थक गए तो हमेशा के लिए थक गए ।

अरे बहुत है ऐसे थके हुये लोग जिंदगी से हारे हुए लोग।कुछ नही होने वाला ये नही होने वाला, देखेगे कुछ करेगे ।।

हर टाइम हर किसी से कुछ न कुछ सीखना है।।भागवतगीता जी में भी हठयोगी नही कर्मयोगी को श्रेष्ट बताया है।

Leave a Reply